No icon

एम्स के माध्यम से कश्मीर को आयुष्मान बनाने की जिम्मेदारी पदमश्री प्रो रविकांत पर

दिल्ली (जितेंद्र शर्मा)

धारा 370 हटने के बाद जम्मू कश्मीर की तरक्की में एक और अध्याय जुड़ने जा रहा है, केंद्र ने वहाँ स्वास्थ सेवाओ को दुरुस्त करने के लिये एम्स जम्मू पुलवामा की जिम्मेदारी एम्स ऋषिकेश के निदेशक पद्मश्री प्रो रविकांत को दी है।उन्हें स्वास्थ संस्थानों के शिल्पकार के रूप में जाना जाता है।

संस्थान की कार्ययोजनाओं को विस्तृत रूप देने के लिये निदेशक प्रो रविकांत ने एम्स ऋषिकेश की टीम के साथ जम्मू का दौरा किया। इस दौरान उन्होंने जम्मू में एम्स के अधिकारियों व केंद्रीय मंत्री जितेंद्र सिंह से एक बेहतर एम्स बनाने के लिये चर्चा की,मीटिंग में विचारों और सुझावों के आदानप्रदान में जम्मूकश्मीर में स्वास्थ्य सेवाओं को सुधारने के लिए रोडमैप तैयार किया गया।

प्रो रविकांत को एम्स जम्मू पुलवामा का अतिरिक्त कार्यभार दिया जाना इसलिए भी महत्वपूर्ण है क्योंकि वो पहाड़ी विषमताओं में बेहतरीन स्वास्थ सेवा देने के महारथी है।उत्तराखण्ड में दुर्गम पहाड़ियों के बीच उन्होंने केदार से काशी तक आउटरीच सैल के माध्यम से सेवाएं दी हैं।प्रयाग कुम्भ के दौरान नेत्रकुम्भ ने अच्छी ख्याति पायी थी।जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाये जाने के बाद जम्मू कश्मीर की स्वास्थ्य सेवाओं को सुधारने के लिए यह केंद्र का अच्छा कदम माना जा रहा है।जम्मू कश्मीर का आतंक के बाद इंफ्रास्ट्रक्चर बिल्कुल तहसनहस हो गया था।अब सरकार वहाँ विकास के लिए अपने अपने क्षेत्रों के विशेषज्ञों का सहयोग ले रही है,प्रो रविकांत को जम्मूकश्मीर का कार्यभार इसी दिशा में महत्वपूर्ण कदम है।बताते चले कि प्रो रविकांत को स्वास्थ्य सेवाओं में सुधार के लिये केंद्र सरकार द्वारा पदम्श्री व डॉ बी सी राय अवार्ड दिया जा चुका है।केजीएमयू के कुलपति रहते हुए उन्हें प्रदेश सरकार ने यशभारती से नवाजा था।

Comment As:

Comment (0)